इटावा – प्रदेश में जंगलराज कायम है, महिलाएं बेटियां सुरक्षित नहीं हैं।: सुभाषिनी अली

इटावा राजनीति

इटावा। प्रदेश में जंगलराज कायम है, महिलाएं बेटियां सुरक्षित नहीं हैं। हाथरस और उन्नाव की घटनाएं शर्मशार करने वाली हैं। यह बातें शुक्रवार को माकपा कार्यालय में वार्ता के दौरान पूर्व सांसद सुभाषिनी अली ने कहीं।

उन्होंने प्रदेश सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि यूपी में पुलिस बेलगाम हो गई है। इटावा में थाने में महिला कि पिटाई कर उससे जूतों पर नाक रगड़वाई जा रही है। उन्होंने मांग की कि महिला की पिटाई करने वाले पुलिसकर्मियों को तत्काल गिरफ्तार किया जाए।
माकपा कार्यालय में वार्ता के दौरान पूर्व सांसद ने कहा कि योगी सरकार की योजनाएं लूट के साथ जुड़ी हैं। कोरोना वैक्सीन को बेचकर निजी ग्रुप द्वारा टीका लगाने की योजना बनाई जा रही है।
प्रदेश सरकार भेदभाव और बदले की राजनीति कर रही है और अल्पसंख्यकों को दुश्मन मान रही है। हर तरफ डर और भय का माहौल बना रही है। पंचायतों में कृषि कानूनों के विरोध में किसान उमड़ रहे हैं। मजदूरों को मनरेगा में औसतन 40 दिन काम मिल रहा है।

इटावा। प्रदेश में जंगलराज कायम है, महिलाएं बेटियां सुरक्षित नहीं हैं। हाथरस और उन्नाव की घटनाएं शर्मशार करने वाली हैं। यह बातें शुक्रवार को माकपा कार्यालय में वार्ता के दौरान पूर्व सांसद सुभाषिनी अली ने कहीं।

उन्होंने प्रदेश सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि यूपी में पुलिस बेलगाम हो गई है। इटावा में थाने में महिला कि पिटाई कर उससे जूतों पर नाक रगड़वाई जा रही है। उन्होंने मांग की कि महिला की पिटाई करने वाले पुलिसकर्मियों को तत्काल गिरफ्तार किया जाए।

माकपा कार्यालय में वार्ता के दौरान पूर्व सांसद ने कहा कि योगी सरकार की योजनाएं लूट के साथ जुड़ी हैं। कोरोना वैक्सीन को बेचकर निजी ग्रुप द्वारा टीका लगाने की योजना बनाई जा रही है।

प्रदेश सरकार भेदभाव और बदले की राजनीति कर रही है और अल्पसंख्यकों को दुश्मन मान रही है। हर तरफ डर और भय का माहौल बना रही है। पंचायतों में कृषि कानूनों के विरोध में किसान उमड़ रहे हैं। मजदूरों को मनरेगा में औसतन 40 दिन काम मिल रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *