इटावा जंक्शन पर मौजूद  पुलिस-प्रशासन ने रोका किसानों का रेल चक्का जाम आंदोलन

इटावा जंक्शन पर मौजूद पुलिस-प्रशासन ने रोका किसानों का रेल चक्का जाम आंदोलन

इटावा राजनीति

इटावा। लंबे समय से देश में जारी किसान आंदोलन के 85वें दिन गुरुवार को देशव्यापी रेल रोको आंदोलन को जिले में पुलिस प्रशासन ने फलीभूत नहीं होने दिया। तीन किसान कानूनों को वापस लिए जाने की मांग के साथ संयुक्त किसान मोर्चा की दोपहर 12 बजे से चार बजे तक रेल रोकने की तैयारी थी।

इटावा जंक्शन पर मौजूद पुलिस अमला।
लंबे समय से देश में जारी किसान आंदोलन के 85वें दिन गुरुवार को देशव्यापी रेल रोको आंदोलन को जिले में पुलिस प्रशासन ने फलीभूत नहीं होने दिया। तीन किसान कानूनों को वापस लिए जाने की मांग के साथ संयुक्त किसान मोर्चा की दोपहर 12 बजे से चार बजे तक रेल रोकने की तैयारी थी।
भारतीय किसान यूनियन के जिलाध्यक्ष को सैफई स्थित उनके आवास में पुलिस ने नजरबंद कर दिया। इटावा जंक्शन जा रहे किसानों को शहर के शास्त्री चौराहे पर पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया और अलग-अलग थानों व चौकियों में ले जाकर बैठाया। नियमानुसार शाम पांच बजे इन लोगों को छोड़ दिया गया।
सैफई स्थित नगला महुआ निवासी भारतीय किसान यूनियन के जिलाध्यक्ष संजीव कुमार के घर सुबह ही एसडीएम, सीओ व पुलिस पहुंच गई और उन्हें उनके घर में ही नजरबंद कर दिया। उनको बताया गया कि उच्चाधिकारियों ने उनके कहीं जाने-आने पर रोक लगाई है।
शहर में इटावा जंक्शन की ओर जा रहे भाकियू के जिला महामंत्री संजेश कुमार, कायम सिंह, श्रीकिशन, नगर अध्यक्ष प्रवीन यादव, रामौतार, रामकिशोर प्रजापति को पुलिस ने आगे बढ़ने से रोका और फिर शास्त्री चौराहा से गिरफ्तार कर टिक्सी मंदिर चौकी ले गई।
इसके अलावा जंक्शन की ओर जाने के प्रयास में आलोक यादव, राजवीर, अखिलेश, चंदू बाबाजी, सुनील बंटी आदि को पुलिस गिरफ्तार कर सिविल लाइन थाना ले गई। अन्य स्थानों से भी पुलिस ने किसान आंदोलनकारियों को गिरफ्तार किया और पुलिस लाइन ले गई।
शाम लगभग पांच बजे सभी को छोड़ दिया गया। टीटी चौकी पर मौजूद भाकियू जिला महामंत्री संजेश कुमार ने कहा कि प्रशासन का रवैया उत्पीड़नात्मक है, हमसे प्रदर्शन करने का अधिकार छीन लिया गया है। इस उत्पीड़न से हम न दबेंगे और न ही रुकेंगे।

भारतीय किसान यूनियन के जिलाध्यक्ष को सैफई स्थित उनके आवास में पुलिस ने नजरबंद कर दिया। इटावा जंक्शन जा रहे किसानों को शहर के शास्त्री चौराहे पर पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया और अलग-अलग थानों व चौकियों में ले जाकर बैठाया। नियमानुसार शाम पांच बजे इन लोगों को छोड़ दिया गया।

सैफई स्थित नगला महुआ निवासी भारतीय किसान यूनियन के जिलाध्यक्ष संजीव कुमार के घर सुबह ही एसडीएम, सीओ व पुलिस पहुंच गई और उन्हें उनके घर में ही नजरबंद कर दिया। उनको बताया गया कि उच्चाधिकारियों ने उनके कहीं जाने-आने पर रोक लगाई है।

शहर में इटावा जंक्शन की ओर जा रहे भाकियू के जिला महामंत्री संजेश कुमार, कायम सिंह, श्रीकिशन, नगर अध्यक्ष प्रवीन यादव, रामौतार, रामकिशोर प्रजापति को पुलिस ने आगे बढ़ने से रोका और फिर शास्त्री चौराहा से गिरफ्तार कर टिक्सी मंदिर चौकी ले गई।

इसके अलावा जंक्शन की ओर जाने के प्रयास में आलोक यादव, राजवीर, अखिलेश, चंदू बाबाजी, सुनील बंटी आदि को पुलिस गिरफ्तार कर सिविल लाइन थाना ले गई। अन्य स्थानों से भी पुलिस ने किसान आंदोलनकारियों को गिरफ्तार किया और पुलिस लाइन ले गई।

शाम लगभग पांच बजे सभी को छोड़ दिया गया। टीटी चौकी पर मौजूद भाकियू जिला महामंत्री संजेश कुमार ने कहा कि प्रशासन का रवैया उत्पीड़नात्मक है, हमसे प्रदर्शन करने का अधिकार छीन लिया गया है। इस उत्पीड़न से हम न दबेंगे और न ही रुकेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *